Patthar Ki Radha Rani Patthar Ke Krishna Murari, पत्थर की राधा रानी पत्थर के कृष्ण मुरारी

पत्थर की राधा रानी पत्थर के कृष्ण मुरारी

Patthar Ki Radha Rani Patthar Ke Krishna Murari

पत्थर के कृष्णा मुरारी

पत्थर की राधा प्यारी

पत्थर से पत्थर घिसकर

पैदा होती चिंगारी

पत्थर की नारी अहिल्या

पथ से श्री राम ने तारी पत्थर के पथ पर बैठी

मैया हमारी

 

चॊदह बरस बनवास को भेजा

राम लखन सीता को

पत्थर रख सीने में दशरथ ने

कृष्णा जुदाई का भी पत्थर

सहा देव की माँ ने

कैसी लीला रची कुदरत ने

पत्थर धन्य पाया

इसमें ठाकुर बसे

पत्थर में हमने पाई

भोले भंडारी

 

ले हनुमान उड़े पत्थर को

बूटी संजीवनी लाये

सरे वीर पुरुष हर्षाए

तेर गए पानी में पत्थर

काम सेतु के आये

पत्थर राम लखन मन भाए

पत्थर से तू बना

वो तो बड़ा ही घना ]2]

पत्थर जगह जगह है

मूरत बड़ी प्यारी

 

जहां से आये बहकर पानी

गंगा में मिल जाये

वो तो गंगा जल कहलाये ।2।

गंगा से जब लाये पानी

यमुना में मिल जाये

वो तो यमुना जल कहलाये ।2।

दोनों में अंतर है क्या

मुझ को ये तो बता ।2।

पानी का रंग न कोई

पानी तो पानी

I want such articles on email

Now Give Your Questions and Comments:

Your email address will not be published. Required fields are marked *