मुख देखन हों आई लाल को - Mukh Dekhan Ho Aayi Lal Ko

मुख देखन हों आई लाल को
Mukh Dekhan Ho Aayi Lal Ko

मुख देखन हों आई लाल को।

मुख देखन हों आई लाल को। काल मुख देख गई दधि बेचन जात ही गयो बिकाई ॥१॥

दिन ते दूनों लाभ भयो घर काजर बछिया जाई। आई हों धाय थंभाय साथ की मोहन देहो जगाई ॥२॥

सुन प्रिय वचन विहस उठि बैठे नागर निकट बुलाई।परमानंद सयानी ग्वालिनी सेन संकेत बताई ॥३॥

[ Read Also श्री कृष्ण जन्माष्टमी पूजन विधि – How to do Shri Krishna Janmashtami Puja in Hindi/English ]

Send me such articles

    Similar Posts