Geeta Updesh in Hindi गीता उपदेश हिंदी

3067 BC is when the Mahabharata war took place, and it is during this time when Bhagwan Krishn blessed Arjun with Geeta Updesh. The knowledge was given so that Humans can know about the essence of their existence and how they should lead their lives.

गीता के माध्यम से भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को अनासक्त कर्म यानी ‘फल की इच्छा किए बिना कर्म’ करने की प्रेरणा दी।

गीता उपदेश Geeta Updesh (Hindi)

Geeta Mahabharat

इसका प्रमाण उन्होंने अपने निजी जीवन में भी प्रस्तुत किया। मथुरा विजय के बाद भी उन्होंने वहां शासन नहीं किया।

Geeta-Updesh

कला से प्रेम करो : संगीत व कलाओं का हमारे जीवन में विशिष्ट स्थान है। भगवान ने मोरपंख व बांसुरी धारण करके कला, संस्कृति व पर्यावरण के प्रति अपने लगाव को दर्शाया।

इनके जरिए उन्होंने संदेश दिया कि जीवन को सुंदर बनाने में संगीत व कला का भी महत्वपूर्ण योगदान है।

निर्बल का साथ दो : कमजोर व निर्बल का सहारा बनो। निर्धन बाल सखा सुदामा हो या षड्यंत्र का शिकार पांडव, श्रीकृष्ण ने सदा निर्बलों का साथ दिया और उन्हें मुसीबत से उबारा।

अन्याय का प्रतिकार करो : अन्याय का सदा विरोध होना चाहिए। श्रीकृष्ण की शांतिप्रियता कायर की नहीं बल्कि एक वीर की थी। उन्होंने अन्याय कभी स्वीकार नहीं किया। शांतिप्रिय होने के बावजूद शत्रु अगर गलत है तो उसके शमन में पीछे नहीं हटें।

मातृशक्ति के प्रति आदर भाव रखें : महिलाओं के प्रति सम्मान व उन्हें साथ लेकर चलने का भाव हो। भगवान कृष्ण की रासलीला दरअसल मातृशक्ति को अन्याय के प्रति जागृत करने का प्रयास था और इसमें राधा उनकी संदेशवाहक बनीं।

अपने अहंकार को छोड़ो : व्यक्तिगत जीवन में हमेशा सहज व सरल बने रहो।

जिस तरह शक्ति संपन्न होने पर भी श्रीकृष्ण को न तो युधिष्ठिर का दूत बनने में संकोच हुआ और न ही अर्जुन का सारथी बनने में। एक बार तो दुर्योधन के छप्पन व्यंजन को छोड़ कर विदुरानी (विदुर की पत्नी) के घर उन्होंने सादा भोजन करना पसंद किया।

जीवन में उदारता रखें : उदारता व्यक्तित्व को संपूर्ण बनाती है।

श्रीकृष्ण ने जहां तक हो सका मित्रता, सहयोग सामंजस्य आदि के बल पर ही परिस्थितियों को सुधारने का प्रयास किया, लेकिन जहां जरूरत पड़ी वहां सुदर्शन चक्र उठाने में भी उन्होंने संकोच नहीं किया। वहीं अपने निर्धन सखा सुदामा का अंत तक साथ निभाया और उनके चरण तक पखारें।

[ संपूर्ण श्रीमद् भगवद् गीता हिंदी के लिए यहा क्लिक करे ]

गीता मूल शिक्षा

गीता सार: संक्षिप्त मे गीता रहस्य

गीता को हिन्दु धर्म मे बहुत खास स्थान दिया गया है। गीता अपने अंदर भगवान कृष्ण के उपदेशो को समेटे हुए है। गीता को आम संस्कृत भाषा मे लिखा गया है, संस्कृत की आम जानकारी रखना वाला भी गीता को आसानी से पढ़ सकता है। गीता मे चार योगों के बारे विस्तार से बताया हुआ है, कर्म योग, भक्ति योग, राजा योग और जन योग।

गीता को वेदों और उपनिषदों का सार माना जाता, जो लोग वेदों को पूरा नही पढ़ सकते, सिर्फ गीता के पढ़ने से भी आप को ज्ञान प्राप्ति हो सकती है। गीता न सिर्फ जीवन का सही अर्थ समझाती है बल्कि परमात्मा के अनंत रुप से हमे रुबरु कराती है। इस संसारिक दुनिया मे दुख, क्रोध, अंहकार ईर्ष्या आदि से पिड़ित आत्माओं को, गीता सत्य और आध्यात्म का मार्ग दिखाकर मोक्ष की प्राप्ति करवाती है।

गीता मे लिखे उपदेश किसी एक मनुष्य विशेष या किसी खास धर्म के लिए नही है, इसके उपदेश तो पूरे जग के लिए है। जिसमे आध्यात्म और ईश्वर के बीच जो गहरा संबंध है उसके बारे मे विस्तार से लिखा गया है। गीता मे धीरज, संतोष, शांति, मोक्ष और सिद्धि को प्राप्त करने के बारे मे उपदेश दिया गया है।

आज से हज़ारो साल पहले महाभारत के युद्ध मे जब अर्जुन अपने ही भाईयों के विरुद्ध लड़ने के विचार से कांपने लगते हैं, तब भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। कृष्ण ने अर्जुन को बताया कि यह संसार एक बहुत बड़ी युद्ध भूमि है, असली कुरुक्षेत्र तो तुम्हारे अंदर है। अज्ञानता या अविद्या धृतराष्ट्र है, और हर एक आत्मा अर्जुन है। और तुम्हारे अन्तरात्मा मे श्री कृष्ण का निवास है, जो इस रथ रुपी शरीर के सारथी है। ईंद्रियाँ इस रथ के घोड़ें हैं। अंहकार, लोभ, द्वेष ही मनुष्य के शत्रु हैं।

गीता हमे जीवन के शत्रुओ से लड़ना सीखाती है, और ईश्वर से एक गहरा नाता जोड़ने मे भी मदद करती है। गीता त्याग, प्रेम और कर्तव्य का संदेश देती है। गीता मे कर्म को बहुत महत्व दिया गया है। मोक्ष उसी मनुष्य को प्राप्त होता है जो अपने सारे सांसारिक कामों को करता हुआ ईश्वर की आराधना करता है। अहंकार, ईर्ष्या, लोभ आदि को त्याग कर मानवता को अपनाना ही गीता के उपदेशो का पालन करना है।

गीता सिर्फ एक पुस्तक नही है, यह तो जीवन मृत्यु के दुर्लभ सत्य को अपने मे समेटे हुए है। कृष्ण ने एक सच्चे मित्र और गुरु की तरह अर्जुन का न सिर्फ मार्गदर्शन किया बल्कि गीता का महान उपदेश भी दिया। उन्होने अर्जुन को बताया कि इस संसार मे हर मनुष्य के जन्म का कोई न कोई उद्देशय होता है। मृत्यु पर शोक करना व्यर्थ है, यह तो एक अटल सत्य है जिसे टाला नही जा सकता। जो जन्म लेगा उसकी मृत्यु भी निश्चित है। जिस प्रकार हम पुराने वस्त्रो को त्याग कर नए वस्त्रो को धारण करते है, उसी प्रकार आत्मा पुराने शरीर के नष्ट होने पर नए शरीर को धारण करती है। जिस मनुष्य ने गीता के सार को अपने जीवन मे अपना लिया उसे ईश्वर की कृपा पाने के लिए इधर उधर नही भटकना पड़ेगा।

श्री कृष्ण का मानव जीवन जीने का उपदेश

श्रीमद भगवद एकादश स्कंध अध्याय ७ श्लोक ६-१२

तुम अपने आत्मीय स्वजन और बन्धु-बांधवों का स्नेह सम्बन्ध छोड़ दो और अनन्य प्रेम से मुझमें अपना मन लगाकर सम दृष्टी से पृथ्वी पर स्वच्छंद विचरण करो|

इस जगत में जो कुछ मन से सोचा जाता है, वाणी से कहा जाता है, नेत्रों से देखा जाता है, और श्रवण आदि इन्द्रियों से अनुभव किया जाता है, वह सब नाशवान है, स्वप्न की तरह मन का विलास है| इसीलिए माया-मात्र है, मिथ्या है-ऐसा जान लो |

जिस पुरुष का मन अशांत है, असयंत है उसी को पागलों की तरह अनेकों वस्तुयें मालूम पड़ती हैं ; वास्तव में यह चित्त का भ्रम ही है | नानात्व का भ्रम हो जाने पर ही “यह गुण है” और “यह दोष है” इस प्रकार की कल्पना करी जाती है | जिसकी बुद्धि में गुण और दोष का भेद बैठ गया हो, दृणमूल हो गया है, उसी के लिए कर्म, अकर्म और विकर्म रूप का प्रतिपादन हुआ है |

You will like:   VERDICT OF LUCKNOW BENCH OF ALLAHABAD HIGH COURT ON SRI RAMA JANMA BHUMI BASED ON FACTS

[ Read Also Sampurn Krishna Janmaashtami Puja Vidhi English/Hindi ]

जो पुरुष गुण और दोष बुद्धि से अतीत हो जाता है, वह बालक के समान निषिद्ध कर्मों से निवृत्त होता है ; परन्तु दोष बुद्धि से नहीं | वह विहित कर्मों का अनुष्ठान भी करता है, परन्तु गुण बुद्धि से नहीं |

जिसने श्रुतियों के तात्पर्य का यथार्थ ज्ञान ही प्राप्त नहीं कर लिया, बल्कि उनका साक्षात्कार भी कर लिया है और इस प्रकार जो अटल निश्चय से संपन्न हो गया है, वह समस्त प्राणियों का हितैषी सुहृद होता है और उसकी साड़ी वृत्तियाँ सर्वथा शांत रहती हैं| वह समस्त प्रतीयमान विश्व को मेरा ही स्वरुप – आत्मस्वरूप देखता है; इसलिए उसे फिर कभी जन्म-मृत्यु के चक्र में नहीं पड़ना पड़ता |

Bhagavad Geeta Lessons for Materialistic Beings (English/Hindi)

The Geeta Lessons given below is perfect for materialistic people who engage in daily life to earn livelihood and elevate standards of their life (or so they think). Being materialistic refers to having values that place a significant emphasis on earning a lot of money, owning a lot of things, and maintaining a good reputation, all of which are frequently achieved through wealth and material belongings.

Hindi Meaning: नीचे दिया गया गीता पाठ भौतिकवादी लोगों के लिए एकदम सही है जो आजीविका कमाने और अपने जीवन के स्तर को ऊंचा करने के लिए दैनिक जीवन में संलग्न हैं (या ऐसा वे सोचते हैं)। भौतिकवादी होने का तात्पर्य उन मूल्यों से है जो बहुत सारा पैसा कमाने, बहुत सारी वस्तुओं के स्वामी होने और एक अच्छी प्रतिष्ठा बनाए रखने पर महत्व से अधिक जोर देते हैं, ये सभी अक्सर धन और भौतिक सामग्री के माध्यम से प्राप्त किए जाते हैं।

Bhagavad Geeta Lessons for Materialistic Beings

Only the Bhagavad Gita contains the rationale of the entire human race’s life in the Kaliyug. Since the beginning of time, all humans have been innervated with both heavenly and demonic energies.

Hindi Meaning: केवल भगवद गीता में कलियुग में संपूर्ण मानव जाति के जीवन का तर्क निहित है। आदिकाल से ही, सभी मनुष्यों में स्वर्गीय और आसुरी दोनों प्रकार की ऊर्जाओं का संचार हुआ है।

Divine and bad energies coexisted on the outer realms in the Satyug period. They existed in the world during Treta Yug. The fight between the forces of good and evil occurs inside families during the Dwapar Yug. Positive and negative forces clash throughout the body during the Kali Yug. Bhagwan Krishn gave the Bhagavad Gita to the Kaliyug-era humans as a gift.

Hindi Meaning: सतयुग में बाहरी लोकों पर दैवीय और बुरी शक्तियों का सहअस्तित्व था। त्रेता युग में दोनों का अस्तित्व विश्व में था। द्वापर युग में  परिवारों के भीतर ही अच्छी और बुरी शक्तियों के बीच युद्ध होता है। कलियुग में मानव शरीर में ही सकारात्मक और नकारात्मक शक्तियों का टकराव होता है। भगवान कृष्ण ने कलियुग के मनुष्यों को भगवद गीता उपहार के रूप में दिया है। जिस से मनुष्य आंतरिक और बाहरी बुरी शक्तियों पर विजय पा सके।

It is therefore imperative that every man, woman, kid, and senior read and understand Bhagavad Gita without which it is pointless to consider the wellbeing of humanity.

Hindi Meaning: इसलिए यह अनिवार्य है कि प्रत्येक पुरुष, महिला, बच्चा और वरिष्ठ नागरिक गीता के सभी अध्याय का अध्ययन करें, जिसके बिना मानवता की भलाई पर विचार करना व्यर्थ है।

Gita knowledge fosters the development of positive values in kids as well.

Hindi Meaning: गीता ज्ञान बच्चों में भी सकारात्मक मूल्यों के विकास को बढ़ावा देता है।

[ For Full Srimad Bhagwad Geeta in Hindi Check here: (  संपूर्ण श्रीमद् भगवद् गीता हिंदी के लिए यहा क्लिक करे| ( You can find Geeta Updesh Karmyog in Hindi कर्मयोग | गीता उपदेश here ) ]

No one can follow the path of morality and Dharma without understanding this Gita; thus, it is necessary to routinely read or listen to it in order to foster righteousness within the family and across society. The nectar of the Gita should be accepted by everyone, no matter where they are in the globe.

Hindi Meaning: इस गीता को समझे बिना कोई भी नैतिकता और धर्म के मार्ग पर नहीं चल सकता है; इस प्रकार, परिवार और समाज में धार्मिकता को बढ़ावा देने के लिए इसे नियमित रूप से पढ़ना या सुनना आवश्यक है। गीता के अमृत को सभी को स्वीकार करना चाहिए, चाहे वे दुनिया में कहीं भी हों।

Geeta Updesh shows that Bhagwan is not just where we worship, Bhagwan is also there where everyone sins.

Hindi Meaning: गीता उपदेश से पता चलता है कि भगवान सिर्फ वहीं नहीं हैं जहां हम पूजा करते हैं, भगवान भी वहां हैं जहां हर कोई पाप करता है। भगवान सर्वव्यापी ह।

Bhagavad Gita revealed again in the Kaliyug for the first time, to make youu nderstand,
Why do you worry in vain? why are you scared , who can kill you? The soul is never born and no one can kill it. This is the ultimate truth of life.

Hindi Meaning: कलियुग में पहली बार फिर प्रकट हुई भगवद्गीता, आप सभी को अनमोल ज्ञान देने कि,
व्यर्थ की चिंता क्यों करते हो? तुम क्यों डरते हो, तुम्हें कौन मार सकता है? आत्मा कभी जन्म नहीं लेती और उसे कोई मार नहीं सकता। यही जीवन का अंतिम और परम सत्य है।

Read Also
Proven Krishna Existed | People had darshan of Krishna | Mahamantra to Meet Krishna

Bhagavad Gita Lessons of Bhagwan Krishna to the World (English/Hindi)

Bhagwan Krishna said to Arjun these precious words which are relevant to humans of every age, time and situation.

Hindi Meaning: भगवान कृष्ण ने अर्जुन से ये अनमोल वचन कहे जो हर युग, समय और स्थिति के मानवों के लिए प्रासंगिक हैं।

Bhagavad Gita Lessons of Bhagwan Krishna to the World

Bhagwan Krishna said: The demonic inclinations, such as desire, fury, wrath, hatred, etc., assault in the shape of a barrier when a person progresses toward his or her self-form with the aid of divine energies. The true fight is to win it. Arjun was singled out for praise. He was interested in fighting, but he had doubts about the thought of using arrows to attack members of his own tribe. Here, everyone of us as people must perform the purification within. Prior to trying to change the world, first transform yourself.

You will like:   Shukracharya's Pisacha Revealed Quran to Muhammad

Gita Lesson Hindi Meaning: जब कोई व्यक्ति दैवीय शक्तियों की सहायता से अपने स्व-रूप की ओर बढ़ता है, तो आसुरी प्रवृत्ति, जैसे इच्छा, क्रोध, क्रोध, घृणा, आदि, एक बाधा के रूप में हमला करते हैं। जीतना ही असली लड़ाई है। अर्जुन की तारीफ की गई। वह लड़ने में रुचि रखता था, लेकिन उसे अपने ही कबीले के सदस्यों पर हमला करने के लिए तीरों का उपयोग करने के विचार के बारे में संदेह था। यहां, हम सभी को लोगों के रूप में अपने भीतर शुद्धिकरण करना चाहिए। दुनिया को बदलने की कोशिश करने से पहले, पहले खुद को बदलो।

Bhagwan Krishna said: Be kind to the innocent, but kill the adharmis.

Gita Lesson Hindi Meaning: सज्जन पर दया करो, लेकिन अधर्मियों का समूल विनाश करो।

People in the Kaliyug are extremely confused and underdeveloped in terms of their mental, physical, and spiritual well-being. Due to this, Bhagwan Krishn was had to elucidate 18 Gita passages. Krishna then enquired as to whether your disenchantment with the clan had been broken or not, and Arjun replied in the affirmative by saying that it had. I shall now follow Bhagwan’s instructions.

Gita Lesson Hindi Meaning: कलियुग में लोग अपने मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक कल्याण के मामले में बेहद भ्रमित और अविकसित हैं। इसके कारण भगवान कृष्ण को गीता के 18 अंशों की व्याख्या करनी पड़ी। कृष्ण ने तब पूछा कि क्या कुल के साथ आपका मोह भंग हुआ है या नहीं, और अर्जुन ने यह कहते हुए सकारात्मक उत्तर दिया कि यह था। अब मैं भगवान के निर्देशों का पालन करूंगा।

Bhagwan Krishna said: Not just you Arjun, but all people had doubts about what deserved merit and how to obtain it.

Gita Lesson Hindi Meaning: केवल अर्जुन तुम ही नहीं, बल्कि सभी लोगों को इस बात पर संदेह था कि योग्यता क्या है और इसे कैसे प्राप्त किया जाए।

Bhagwan Krishna said: O Arjun! I am aware of every living thing, past, present, and future, yet nobody actually knows me.

Gita Lesson Hindi Meaning: हे अर्जुन! मैं प्रत्येक जीवित वस्तु, भूत, वर्तमान और भविष्य से अवगत हूं, फिर भी वास्तव में मुझे कोई नहीं जानता।

Bhagwan Krishna said: Karm is Dharm, that’s why we should go on doing our Karm (duty) . We will get the fruit automatically, this is the law of the world.

Gita Lesson Hindi Meaning: कर्म ही धर्म है, इसलिए हमें अपना कर्म करते रहना चाहिए। फल हमें स्वतः ही प्राप्त होगा, यह संसार का नियम है।

Bhagwan Krishna said: Neither this body is yours nor you are the owner of this body. Yes, this body is made up of 5 elements – fire, water, air, earth and sky. One time comes when the body will merge into these 5 elements. It goes back to the things from where it came.

Gita Lesson Hindi Meaning: न तो यह शरीर तुम्हारा है और न ही तुम इस शरीर के स्वामी हो। यह शरीर 5 तत्वों से बना है – अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी और आकाश। एक समय आता है जब शरीर पुनः इन 5 तत्वों में विलीन हो जाएगा। यह उन तत्वों में वापस जाता है जहां से यह आया था।

Bhagwan Krishna said: You have considered yourself weak, otherwise what you can do things that you believe to be impossible. You are not weak, you are born strong.

Gita Lesson Hindi Meaning: आपने स्वयं को दुर्बल माना है, वरना आप वो काम क्या कर सकते हैं जो आपको असंभव लगता है। आप निर्बल नहीं हैं, आप बलवान पैदा हुए हैं।

Bhagwan Krishna said: As long as you are afraid, the decision of your life will be taken by others. Be fearless and make your own decisions.

Gita Lesson Hindi Meaning: जब तक आप डरते रहेंगे, आपके जीवन का निर्णय दूसरे लोग लेंगे। निडर रहें और अपने निर्णय स्वयं लें।

Bhagwan Krishna said: If you are looking at someone as a small entity, then either you are looking at it from afar or you are observing at it from your inner ego.

Gita Lesson Hindi Meaning: यदि आप किसी को अपने से छोटे रूप में देख रहे हैं, तो या तो आप इसे दूर से देख रहे हैं या आप इसे अपने आंतरिक अहंकार से देख रहे हैं।

Bhagwan Krishna said: This is yours, that is mine. This is small and that is big. Erase such alien thoughts that invoke differences in your mind. After removing such thoughts, all is yours and you are everyone’s.

Gita Lesson Hindi Meaning: यह तुम्हारा है, वह मेरा है। यह छोटा है और वह बड़ा है। ऐसे पराए विचारों को मन में न लाये जो आपके मन में मतभेद पैदा करते हैं। ऐसे विचारों को दूर करने के बाद, सब आपके और आप सब के बन जाते हो।

Bhagwan Krishna said: The body is purified by water, the mind by truth. The intellect is cleansed by knowledge. The soul is purified by Dharma.

Gita Lesson Hindi Meaning: शरीर जल से शुद्ध होता है, मन सत्य से। ज्ञान से बुद्धि शुद्ध होती है। धर्म से आत्मा की शुद्धि होती है।

Bhagwan Krishna said: Life comes with troubles. The troubles in life never diminish, you must learn how to spend time with them.

Gita Lesson Hindi Meaning: जीवन संकटों के साथ आता है। जीवन में परेशानियां कभी कम नहीं होती, आपको उनके साथ समय बिताना सीखना चाहिए।

Bhagwan Krishna said: Hey Partha! The death of a born being is as certain as that of every individual. Birth is also certain, therefore O Partha, do not grieve over what is certain.

Gita Lesson Hindi Meaning: हे पार्थ! जन्म लेने वाले की मृत्यु हर व्यक्ति के लिए निश्चित है। जन्म भी निश्चित है, इसलिए हे पार्थ, जो निश्चित है उस पर शोक मत करो।

Bhagwan Krishna said: Hey Partha! Why lament over what has passed. Why arrogance for what you have. Why desire for what is to come in future. Stay in present.

You will like:   Mahabharat: Chapter 73 Bhisma Was Shot Over 1000 Arrows

Gita Lesson Hindi Meaning: हे पार्थ! जो बीत गया उस पर शोक क्यों? आपके पास जो है उसके लिए अहंकार क्यों। भविष्य में जो आने वाला है उसकी इच्छा क्यों करते हो। वर्तमान में रहो।

Bhagwan Krishna said: Fools cannot even learn in the company of wise. The wise still learns something from the fool.

Gita Lesson Hindi Meaning: बुद्धिमानों की संगति में भी मूर्ख सीख नहीं सकते। बुद्धिमान फिर भी मूर्ख से कुछ न कुछ सीखते ही हैं।

Bhagwan Krishn Said: You do what you want, but happens what I want. You do what I want, then what you want will happen.

Gita Lesson Hindi Meaning: आप जो चाहते हैं वह करते हैं, लेकिन जो मैं चाहता हूं वह होता है। मैं जो चाहता हूँ वो करो, फिर आप जो चाहते हैं वह हो जाएगा।

Bhagwan Krishn Said: Friendship is necessary, relationship is also necessary, but every difficult situation of life teaches you the art of being alone is also essential. Self-introspection is important, know your strengths and weaknesses.

Gita Lesson Hindi Meaning: मित्रता आवश्यक है, रिश्ते नाते भी आवश्यक है, लेकिन जीवन की हर कठिन परिस्थिति सिखाती है, एकाकी रहने की कला भी जरूरी है। आत्मनिरीक्षण महत्वपूर्ण है, अपनी शक्ति और दुर्बलता को जानें।

Read Also
Proven Krishna Existed

People who got darshan of Shree Krishna

Mahamantra to Meet Bhagwan Krishna

Bhagwan Krishn Said: Change is the law of nature, so do not mourn for the one who is left behind. What is gone has gone forever. Learn to cherish and respect what you have instead.

Gita Lesson Hindi Meaning: परिवर्तन प्रकृति का नियम है, इसलिए जो पीछे छूट गया है उसके लिए शोक मत करो। जो गया वह हमेशा के लिए चला गया। इसके बजाय जो आपके पास है उसे संजोना और सम्मान करना सीखें।

Bhagwan Krishn Said: Recognise and adopt the equality of life, that is, you cannot understand the value of happiness without sorrow. For one who has experienced only happiness, sorrow is like a mountain.

Gita Lesson Hindi Meaning: जीवन की समानता को पहचानो और अपनाओ यानि बिना दुख के सुख की कीमत तुम नहीं समझ सकते। जिसने केवल सुख का अनुभव किया है, उसके लिए दुःख एक पर्वत के समान है।

Bhagwan Krishn Said: Face the fear boldly, that is, never give up with your mind (मन से कभी हार मत मानो), believe in yourself and fight till the end. (There is no correct synonym for “Mann” in primitive language English yet. Mind is not Mann).

Gita Lesson Hindi Meaning: डर का डटकर सामना करें, यानी मन से कभी हार न मानें, स्वयं पर विश्वास रखें और अंत तक लड़ें।

Bhagwan Krishn Said: Don’t worry about the past. Don’t be afraid of the future . Pay attention to the present, the future will automatically be happy and your liking.

Gita Lesson Hindi Meaning: अतीत की चिंता मत करो। भविष्य से मत डरो। वर्तमान पर ध्यान दो, भविष्य अपने आप सुखी और आपकी पसंद का होगा।

Bhagwan Krishn Said: Anyone can become whatever he or she wants, if he or she completely believe and continuously focus on the thing that they want.

Gita Lesson Hindi Meaning: कोई भी जो चाहे वह बन सकता है, अगर वह पूरी तरह से विश्वास करता है और लगातार उस चीज़ पर ध्यान केंद्रित करता है जो वह चाहता है।

Bhagwan Krishn Said: Lust, anger and greed are the three gates that lead a person to hell. Therefore all three traits should be discarded.

Gita Lesson Hindi Meaning: काम, क्रोध और लोभ ये तीन द्वार हैं जो मनुष्य को नरक की ओर ले जाते हैं। इसलिए तीनों गुणों को त्याग देना चाहिए।

Bhagwan Krishn Said: The cause of man’s sorrow is his love for something, the more you desire for that thing or a person , more you will suffer.

Gita Lesson Hindi Meaning: मनुष्य के दु:ख का कारण उसका किसी वस्तु के प्रति प्रेम है, जितना अधिक आप उस वस्तु या व्यक्ति की इच्छा करेंगे, उतना ही अधिक आपको कष्ट होगा।

Bhagwan Krishn Said: That which appears like poison in the beginning but is like nectar in the end, that is why the discussion about intellect of Bhagwan gives sattvik happiness. It is hard to acquaint but easy once learned.

Gita Lesson Hindi Meaning: जो प्रारम्भ में विष के समान प्रतीत होता है परन्तु अन्त में अमृत के समान होता है, इसलिए सत्संग, भगवान् की बुद्धि और ज्ञान की चर्चा ही सात्त्विक सुख देती है। परिचित होना कठिन है लेकिन एक बार सीख लेने के बाद आसान हो जाता है।

|| जय श्री कृष्ण ||

Send me such articles

    Leave a Reply to yogi Cancel reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Similar Posts

    73 Comments

    1. To Learn more about Hanuman Chalisa, Visit: hanumanchalisa.us

    2. ranju kumari says:

      mujhe har ek rahsye ko sunne nhi dekhne ka man karta hai jye krishan bhagwan radhe radhe radhe krishan jye shani mahraj ki

    3. Vinay द्वि says:

      कृष्ण ने कहा था धर्म का साथ दो ना कि निर्बल का

      2
      2
      1. पांडूरंग भिमराव मरगिळ says:

        धर्म का

    4. Khushi pandey says:

      Geeta me likha hai hamara sharir panch tatvon se bana hua h (mitti, jal,vaayu,aakash,aur agni)…aur hamare andar ek energy h jo ki aatma h aur aatma parmatma ka hi ansh h mtlb humsab ko ye samjhna chahiye ki sharir bs ek shadhan hai iss duniya me rhne ka aatma kv ni marta marta humara shahri h kyuki atma to parmatma h n to kya humsab parmatma h aur agar h to fr itne paap kyu hote h koi kisi ko samjhta kyu ni ki yesab moh maya h insab ka tyag kr dena chahiye aur bhagwan ki bhakti krni chahiye whi krna chahiye jisse apne aatma ko mtlb hamare parmatma ko koi v dukh na ho kyuki jo dukh hume hota h usse kahi adhik dukh huamare parmatma ko hota hoga …jaise humsab kuchh v banate h aur koi usse khrab kr Deta h ya kuchh shamy paschat wo khud kharab ho jata h to hume kitna dukh hota h waise hi to hamare bhagwan ji ko aur humare mummy Papa ko jinhone hume janm diya h unhe kitne dukh hote honge …..hai n mai ye bs isliye bol rhi hu kyuki mai geeta padhti hu ramayan padhti hu air aisa kuchh v jaanbujkr ni krti jisse bhagwan ji aur mummy Papa ko dukh ho aur mujhe v …lekin mai yesab isiliye v krti hu kyuki mai bhagwan ji milna chahti hu muhhe dekhna chahti hu …isiliye mai kisiko v dost ni banati kisiki kv sikyat ni krti chugli ni krti kyuki mere bolne se na to koi thik ho jaayega na koi bura ban jaayega. ..mujhe iss duniya se mtlb hi ni h jabse mere man me bhagwan ji ko dekhne ki lalsha jagi h lekin wo ni aate sapne me v bulati hu pr wo ni aate kaise aayenge wo mujhe unhe dekhna h kyuki mai kisika bura ni krti pr mere dushman kam ni h …haa mujhse v kuchh galtiya hui h pr maine jaanbujkr ni kiya aur unsab galtiyo k liye mai mummy Papa se maar kha chuki hu aur usse v bada maine bahut dukh diye h apne aap ko v …taki mai kv dubara kuchh galti na kru pr bhagwan ji ni aate mai Mar v skti hu marne se darr ni h kyuki mujhe kisise mtlb ni h ….pr Mummy Papa ko dukh ni de skti bahut maante h mujhe wolog aur mai.v maanti hu lekin mujhe bhagwan ko v dekhna h pr kaise mai sab krti hu jisse unhe ko dukh na ho pr wo ni aate kaise aayenge ya fr mai.kya kru jisse unhe lage ki mai unse jayada kisise payar ni krti unke shiva koi ni h meri life me important. …

      1
      1
      1. Shubhansh says:

        Bhagwan to hr kann me h hr mann mandir me h, hr manushya me bhagwan h aapme v h, jis tarah hm agni ki par hayi nhi dekh skte, usi prakar hm apne bhagwan ko mehsus to kr skte h pr dekh nhi skte, jis din aapne bhagwan ko dekhne ki iksha chhor di us din aap bhagwan ko pa loge, tb tk apne aapko khush rakhiye, apne mata pita ko khush rakhiye aur khud v khush rahiye, galti krna aur na krne matra se bhagwan ki prapti nhi hoti uske liye, prem, tyag, Dheeraj, rakhna ati aavashyak h…..

      2. Bhaut pysra kikha bilkul sach kikja

      3. Bhagwaan ko paana hai to mann se tann se buddhi se bilkul pavitra hoke aatma se parmatma hoke jis din pukaar karoge us din bhagwaan ka ehsaas hoga or jis din tumhare andar se ‘MAIN’ ,’EHNKAAR’ ye sab bilkul khatm ho jayega tab usi waqt teri satgati hogi us din oukaar na mne b jeevan me sab chhod diya par abhi mujhe lagta hai ki maine kuch chhoda hi ni hai… bhagwaan to bhaaav k bhukhe h oyar prem ke wo kisi ke bandhan me ni band sakte na koi unhe baandh sakta keval ek matra bandhan hai wo h orem ka or jaha prem nahi waha bhagti nahi jaha bhagti nahi waha sabr nahi jaha sabr nahi wha bhagwaan nhi

      4. Mere se contact kro… Khusi pandey

      5. rahul rawat says:

        hi my name is rahul mene aapke qustion pada aapke vichar bhuat sunder h but aap kuch aise baat bol rahe ho jo thoda preshaan karne wale h jaise aap ne apne barre me acche kuch alag trah ki baate kari but aap ko me ek exmple de sakta hun jaise shyad aapki kuch help ho sake jaise bhagwan ko pane ya dekhne ki ichha ki aap baat kar rahe h to is duniya me jine ke liye hame (o2 yani hawa ) ki jarurat h par aap kaho ki mujhe hawa dekhni h to aap sirf use maheshus karte ho thik ussi prakar bhagwan vi hamre saath h aapko ye to aapko pata h ki bhagwan har jagha h wo h hame samjhna hoga bhagwat geeta ke suru ke panno me ye baat kahi gyi me me har jagha h meri ek or baat h marne ki baat kabhi vi apne dimak me mat lekar aao ke bhut galat baat h mata pita ji ki sewa karo wahi hamare bhagwan h pujniya h galat baate dimaak me mat laho or bhagwat geeta ko or acche man se padho me ye dawa nahi karta ki mene bhagwan ko dekha h but istna jarur h ki hamre upar koi sakti jarur h jo hamre saath hoti hame chala rahi h hila rahi mera yahi maanna h ki aap fir ek or achhe dhang se bhagwat geeta padho shant chit hokar or bhagwat geeta me bewajh marne ki baat to khai nahi likhi to mujhe nahi lagta ki jo apne baare me soch rahe ho wo sahi h but ha agr aapko kisis se kuch janna h to aap apne mummy papa ko samarpand kar do or aapke man me jo kuch vi chal raha h aacha bura ya kuch vi use khul kar apne mammy papa ke saath sher karo or unse baat kro sirf wahi jp hamesha aapko sahi or ek dam sahi or satik baat batayenge aap meri kisi vi baat ko mat mano par jo me khe raha hun to ek baat try jarur kro, best wishish for your futcher ,or anta me meri koi baat buri lage to sorry or achi lage to thanks reply jauru kar dena rahul rawat

    5. Gita ka name Gita hi kiun rakha gaya. Koi batayega ishka uttar

    6. kash bhagwan acche logo ki khabar jaldi le liye karte acche aur garib logo ko choti choti khushiyon ke liye bahut intezar karna padta hai

      1. Abhimanyu from Mahabharata says:

        Achhe aur sache log hamesha khush rahte dukh ko bewkuf banao ki hum khush hai aap kabhi dukhi nahi honge…..

      2. ram sagar sahu says:

        bhagwan achhe logo ko jaldi nahi sunti magar der se hi jarur sunte hai

      3. rahul rawat says:

        hi aap ki baat sahi samaj me kahi log h jo aaj ke samay ameer h or garib or garib ho raha h ye wakayi kuch to h jo mujhe vi samjh nahi aata but ha me yaha ameero ki burai bilkul nahi kar rah but aisa ho raha h pata nahi q…………………rahul rawat

    7. Sumit Thakur says:

      Bhaiyon kya nasha karna paap he esaa khi likha he geeta me or paap he too kyu he.

      1. Sameer Sinha says:

        Bhog vilasita (Addiction ) me reh kar iss importent jivan ko nahi samajhna paap hi wo kaise ki agar aap sex ya fir alcohol ke addicted hai to aap pine ke baad aap nhi rehte hai aur aapka mind normally behave nhi karta aur aap bura kaam kar baithte hain jaise fighting , abusing , rape or murder etc.
        which means addiction har haal me bura hi aur iss bahumulye jiwan ko barbad karna paap hi to hai bhai.
        Jai Shree Krishna

      2. Sumit thakur bilkul nasha karna paap hai or wo uslye nasha mass khana ye sab asuri kaam h saitaani kaam hai islye ye bht bda paap hai

      3. Vinay द्वि says:

        कृष्ण ने कहा था धर्म का साथ दो ना कि निर्बल का

    8. Please tell time duration of Geeta

      1. rahul rawat says:

        hi…. aap se yahi kahunga ki aap time mat dekhe bus aapne tarike se padna suru kare but importent geeta ko man se padhe , dil se padhe nahi sab upar se nikal jayega , i hope ki aap ki help ho sake thanks rahul rawat

    9. Geeta path early morning and evening necesary in read my life

    10. Laxman Mallik says:

      Jai shree krishn….radhe radhhe syaam

    11. Anil kumar says:

      Ham Hindu he
      Har Hindu ko gita pdhna jaruri he
      Jai radhe krisna

    12. Anil kumar says:

      Jai shree kirshn
      Radhe Radhe

    13. Praveen menariya says:

      Jai shri Krishna
      Jai radhe krishna

    14. shiv ravi says:

      Us par brmha ne is brmhand ki rachna ki h aor hum hn uske brmhans…unki lilao k 100% smjh pana hmari man aor buddhi ki yogyta nai h….ise vo hi smjh skte hn Jo apne andr sthit param anand kunj k smprk m hn…

    15. Krisan ki 16000 Hazar patni thi kya krisan ne Apne 45 sal Sahi karte karte hi jujar diye krisan ne kya11200 fere liye the or vo itni ptniyo ko kya kiya itni patni yo ko khus kr paya hoga aagar vo bghvan tha to vo mra q

      in que. Ke ans h kya kisi ke paas to cell kre 8607208982

      1. Radhe Radhe Ajay ji,

        Soft Reply: Pehle aap Srimad Bhagwat Puran acche se kum se kum 3 baar pura padhe. Aapko sabhi baaton ka uttar mil jayega.

        Hard Reply: Ajay ji agar ghar may do chaar jodi joote chappal ho toh khud ke face pe 10 baar jor se maariye aur Bhagwan se kshama mangiye. Kyuki jaisi aapki soch hai jald hi kisi din acche se pit jaaoge kisi haribhakt kattar Hindu dwara.

        Jai Shree Krishn

        2
        1
      2. Abhishek patidar says:

        Tu kr skta he ky 16000 hazar pathi
        Beta bhagwan bhagwan he …
        Kai ko dimag kharaha he

      3. vivek sharma says:

        shir krishan to radha ko pyar kertay the pr jo 16000 gopiya the vo to krishan ko apna pati man chuki the is leya shri krishan ne sabhi gopiyo ko patni k darja dya tha kyo ke vo kise k dil nhi dhukena chata thay shri krishan 45 sal nhi 125 sal tak is preathye lok pr rehay tha.

      4. Bhai vse baat thik h teri
        Bhai m santust hu
        M aap kise n bhi koni maanu

      5. Abhimanyu from Mahabharata says:

        Ajay Ji aap shrimad bhagwad Greta padhe ya fir koi job dhundh le kisi ki ashtha ka majak na banaye agar meri baat galat lage toh mujhe chhota Bhai samajh kar kshama Kate.
        Jai shri Krishna

    16. Sanjay prajapati says:

      Bina bhakti bhav k 84lac yonio me Jana hi hai isliye bhakti yoga apnao taki agla janm for manusy ka ho

    17. jai shri krishna main aaj se iska palan karunga kuch bhi ho main ab krodh or irshya etc nahi karunga

    18. AMAN SHUKLA says:

      Isse bhatke hue logo ko rasta milta h. Jo bhi iss path pe chale usse jine ka sahara mil jayega.
      Main ek hi chiz kahunga achha karam kro parmatma uska fal awasya dega.

    19. Roshan Barnwal says:

      Isse bhatke hue logo ko rasta milta h. Jo bhi iss path pe chale usse jine ka sahara mil jayega.
      Main ek hi chiz kahunga achha karam kro parmatma uska fal awasya dega.

    20. Bus itna hi khena chaunga nice kuch aacha feel Hua

      1. Yes Geeta hmare jivan ka mhan yog he geeya ka gyan kabhi west nhi jata.

      2. Gita depicts us the reality of life. The follower of gita are the real follower of god.

    21. bhagwan modi says:

      REally great Geeta
      For art of living

    22. RAJESHJANI says:

      GEETA IS A NOT ONLY REALIGION BOOK BUT GEETA IS WHOL MEANING OF HUMAN LIFE & HUMAN LIFE SYSTEM

    23. abhishek pandey says:

      jay sri krishna……….

    24. sahi m yeh toh kalyug hi hai yaha koi satya ki jai nni bolta hai adhram ki jai bolte hain kya kar sakte hain batao aise kalyug m phir ..

    25. Hare krishna…geeta ka sar samjh aajaye to manav is bav sagar se paat utar jaye

    26. right geeta is all in one…….give all knowledge

    27. Maneesh Kumar Jilendra says:

      Jai shree Krishna…..

    28. Tashbir Singh says:

      Geeta mein likhi gai baton ka hamein anusran karna chahiye.

    29. santosh kumar saha says:

      Hare krishna
      Radhe Radhe

    30. Rohit Thakur says:

      jai shri ram
      gau seva karo aur dukhiyo ki seva karo bus aur bhagwan ka name sukh dukh dono samay jo. jai shri radhekrishna

    31. TITAN KUMAR DAS says:

      kebal gyan lene se nahi hotahe usi gita gyan ko apna nitidin ka jiban mein ya apna karmkhetra mein palna jaruri he. Tab jake ehi gita gyan phaldai hota he. JAY SHRI KRISHNA.

    32. gaurav.punj says:

      Geeta, Ramayan and Mahabharta are Dharmik granth books..vo holy books school ke bacho ko padhana chahiye.. vedic knowledge badhti ha tez dimag or vo books pure world ke schools mai padhana chahiye… Guru ke samne…or bache ache celibacy ke palan kar sake.. school mai geeta, ramayan and mahabhara books padhe jaaaye toh…acha hota ha…
      Modi ji visit at Ireland and white Irish peoples speak sanskrit verse and sang sanskrit theme song front of modi ji at Dublin WOW

      1. Radhe Radhe Nitin ji,

        Kyuki Yeh Kaliyug hai aur dharma sirf ek pair pe khada hai. Yeha bhola bane rehne se murkh banaya jaate hai isiliye samajhdar aur sajag rahne ki jarurat hai. Aanewale samay mey aur pratikul paristhithi hogi. Isliye dharm ke raaste pe chalte hue Shree Krishn ke sharan mey jana chahiye aur prayasrat usi ke liye rehna chahiye.

        Jai Shree Krishn

    33. Rajesh sikarwar Dholpur
      Shrimadbhagbat geeta ka gyan jaruri

        1. Kanhiya lal Bhagat ji says:

          Jai shri krishna
          Ye to logo ki soch h ki Bhagwan itni patniyo ko kese khus rakte the
          Are bo bhgwan h sb ke paas ek time me jaa sakte h unke to shstro rup h bo har manv ke sarir me attma ki tarha rehte h pir 16ooo to kya …??

    Leave a Reply to yogi Cancel reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *