अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी Akhiyan Hari Darshan Ki Pyasi

अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी

Akhiyan Hari Darshan Ki Pyasi

अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी |

देखियो चाहत कमल नैन को, निसदिन रहेत उदासी |

आये उधो फिरी गए आँगन, दारी गए गर फँसी |

केसर तिलक मोतीयन की माला, ब्रिन्दावन को वासी |

काहू के मन की कोवु न जाने, लोगन के मन हासी |

सूरदास प्रभु तुम्हारे दरस बिन, लेहो करवट कासी |

I want such articles on email

Now Give Your Questions and Comments:

Your email address will not be published. Required fields are marked *