Tulsidas Wrote ‘Kiye Chareet Paawan Param Prakrit Nar Anuroop’

tulsidas chaupaiyan - किए चरित पावन परम प्राकृत नर अनूरूप

तुलसीदास रचित किए चरित पावन परम प्राकृत नर अनूरूप

Tulsidas Wrote ‘Kiye Chareet Paawan Param Prakrit Nar Anuroop’

किए चरित पावन परम प्राकृत नर अनूरूप।।
जथा अनेक वेष धरि नृत्य करइ नट कोइ ।
सोइ सोइ भाव दिखावअइ आपनु होइ न सोइ ।।

तुलसीदास की मान्यता है कि निर्गुण ब्रह्म राम भक्त के प्रेम के कारण मनुष्य शरीर धारण कर लौकिक पुरुष के अनूरूप विभिन्न भावों का प्रदर्शन करते हैं। नाटक में एक नट अर्थात् अभिनेता अनेक पात्रों का अभिनय करते हुए उनके अनुरूप वेषभूषा पहन लेता है तथा अनेक पात्रों अर्थात् चरितों का अभिनय करता है। जिस प्रकार वह नट नाटक में अनेक पात्रों के अनुरूप वेष धारण करने तथा उनका अभिनय करने से वे पात्र नहीं हो जाता, नट ही रहता है उसी प्रकार रामचरितमानस में भगवान राम ने लौकिक मनुष्य के अनुरूप जो विविध लीलाएँ की हैं उससे भगवान राम तत्वत: वही नहीं हो जाते ,राम तत्वत: निर्गुण ब्रह्म ही हैं।

तुलसीदास ने इसे और स्पष्ट करते हुए कहा है कि उनकी इस लीला के रहस्य को बुदि्धहीन लोग नहीं समझ पाते तथा मोहमुग्ध होकर लीला रूप को ही वास्तविक समझ लेते हैं। आवश्यकता तुलसीदास के अनुरूप राम के वास्तविक एवं तात्त्विक रूप को आत्मसात् करने की है ।

NOTE: WE HAVE SEEN MULTIPLE MONEY-MAKING YOUTUBE VIDEOS AND SPONSORED BLOGS CREATED, COPY-PASTING OUR CONTENT AS IT IS, WITHOUT GIVING REFERENCE TO HARIBHAKT.COM. HARIBHAKT.COM IS A NOT-FOR-PROFIT SITE. PLEASE CITE LINK OF HARIBHAKT.COM WEBPAGE WHEN YOU USE OUR ARTICLES FOR A GOOD KARMA TO RESPECT OUR TIME AND RESEARCH. JAI SHREE KRISHN.

GIVE YOUR COMMENTS, SUGGESTIONS HERE

211 queries in 5.054 seconds.