Akhiyan Hari Darshan Ki Pyasi

अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी Akhiyan Hari Darshan Ki Pyasi

अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी

Akhiyan Hari Darshan Ki Pyasi

अखियाँ हरी दर्शन की प्यासी |

देखियो चाहत कमल नैन को, निसदिन रहेत उदासी |

आये उधो फिरी गए आँगन, दारी गए गर फँसी |

केसर तिलक मोतीयन की माला, ब्रिन्दावन को वासी |

काहू के मन की कोवु न जाने, लोगन के मन हासी |

सूरदास प्रभु तुम्हारे दरस बिन, लेहो करवट कासी |

Share on FacebookShare on Google+Share on RedditPin on PinterestTweet about this on TwitterShare on StumbleUponDigg thisShare on TumblrEmail this to someone

Leave Your Comment

160 queries in 5.141 seconds.